ब्लॉग में आपका स्वागत है

हृदय के उदगारों को शब्द रूप प्रदान करना शायद हृदय की ही आवश्यकता है.

आप मेरी शक्ति स्रोत, प्रेरणा हैं .... You are my strength, inspiration :)

Friday, August 23, 2013

tum kahan- listen my mine




वो  सुबह  क्या उजाला   देगी  जब  वो    होंगे
वो  शाम  कहाँ  सुरमई  होगी  जब  वो    होंगे
                      
श्रृंगार  ये  कहाँ  दमकेगा  जब  वो    होंगे
आत्मा  कहाँ  होगी  जब  आत्मन  ही    होंगे

11.25am, 23 aug, 13


will the morning be glorious when you are not there
can the evening  be enchanting when i am alone here
the adornment won't glisten till your eyes don't see
life-nectar my soul gets my soulmate you are that sea

11.43pm, 23 aug, 13

2 comments:

  1. जी आप अभी तक हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल मे शामिल नही हुए क्या.... कृपया पधारें, हम आपका सह्य दिल से स्वागत करता है।
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}
    - तकनीक शिक्षा हब
    - Tech Education HUB

    ReplyDelete

Thanks for giving your valuable time and constructive comments. I will be happy if you disclose who you are, Anonymous doesn't hold water.

आपने अपना बहुमूल्य समय दिया एवं रचनात्मक टिप्पणी दी, इसके लिए हृदय से आभार.