ब्लॉग में आपका स्वागत है

हृदय के उदगारों को शब्द रूप प्रदान करना शायद हृदय की ही आवश्यकता है.

आप मेरी शक्ति स्रोत, प्रेरणा हैं .... You are my strength, inspiration :)

Thursday, February 23, 2012

मुक्त किया मैंने


लो  अपना  बंधन  हटा  मुक्त  किया  मैंने 
कह  तो  दिया,  तुम्हे,  मेरे  बाँवरे  मन  ने
कभी  न   मिलेगी  आजादी  इस  दिल  को
पगली  तो  चाहे  है,  हरपल  बस  तुम्ही  को

भर  लिया  है  इन्तजार  हर  पल  का
अब, अब आएगा  संदेसा  मेरे  नाम  का
द्वार  को,  बेचैन  मेरी  अँखियाँ,  तकती  हैं
नाम  तेरा  ले  अब  भी  सांसें  मेरी  चलती  हैं


आस  मेरी  टूटकर  भी  नहीं  है  टूटती
विश्वास  की  चांदनी  जरा  भी  न  घटती
कहता  है  मन,  प्रियतम  मेरे,  तुम  आओगे
मेरा   नेह  दिल  से  तुम  भी  न  भुला  पाओगे

रोते  नैन  भी  तब  मुस्कुरा  देते  हैं
ओंठ  मेरे जब  भी  नाम  तेरा  लेते  हैं
तेरे  नाम  की  बिंदिया  सजा  लेती  हूँ
दर्द  को  आँखों  का  कजरा  बना  लेती  हूँ


आजाद  किया  तुमको, ओ  प्रिय  मेरे
कि  लौट  आओ,  बनके,  अब  बस  मेरे
लेंगे  हम मिलकर,  जीवन  के,  हर  फेरे
मैं  सदा  रहूँ  तुम्हारी, तुम  रहो  सदा  मेरे
4.13pm, 22/2/2012 


15 comments:

  1. वाह ...बहुत ही बढि़या।

    ReplyDelete
  2. कल 24/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन भाव
    सुंदर अभिव्यक्ती:-)

    ReplyDelete
  4. एक दूसरे के बंधन मेन बंधे फिर मुक्त कहाँ ? अच्छा भाव संयोजन

    ReplyDelete
  5. मुक्ति में बंधन की तलाश. सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  6. इकतरफा प्यार की पीड़ा ....भावपूर्ण प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  7. अच्छी रचना...
    सुन्दर भाव उकेरे हैं...

    ReplyDelete
  8. आस मेरी टूटकर भी नहीं है टूटती
    विश्वास की चांदनी जरा भी न घटती
    कहता है मन, प्रियतम मेरे, तुम आओगे
    मेरा नेह दिल से तुम भी न भुला पाओगे

    बहुत खूबसूरत भाव...

    ReplyDelete
  9. अनुपम स्नेहमय समर्पण.

    आपकी प्रस्तुति लाजबाब है प्रीति जी,
    आपके सुन्दर नाम को सार्थक करती हुई.

    बहुत बहुत आभार,जी.

    ReplyDelete
  10. रोते नैन भी तब मुस्कुरा देते हैं
    ओंठ मेरे जब भी नाम तेरा लेते हैं
    तेरे नाम की बिंदिया सजा लेती हूँ
    दर्द को आँखों का कजरा बना लेती हूँ

    WAAH WAAH ..

    ReplyDelete
  11. bahut achchhi kavita ,aapki kavitaao ka javaab nahi ,hriday sprshi hoti hai aapki kavitaaye

    ReplyDelete

Thanks for giving your valuable time and constructive comments. I will be happy if you disclose who you are, Anonymous doesn't hold water.

आपने अपना बहुमूल्य समय दिया एवं रचनात्मक टिप्पणी दी, इसके लिए हृदय से आभार.