ब्लॉग में आपका स्वागत है

हृदय के उदगारों को शब्द रूप प्रदान करना शायद हृदय की ही आवश्यकता है.

आप मेरी शक्ति स्रोत, प्रेरणा हैं .... You are my strength, inspiration :)

Tuesday, August 14, 2012

कैसा था तुम्हारा प्यार



कैसा  था  तुम्हारा   प्यार 
जहाँ   मिलन  से  पहले  ही  जुदाई  थी 
दरिया  में  बहाने  कागज  की  नाव  बनाई  थी 
भरने  से  पहले  सूनी  करनी  कलाई  थी 
सोलह  श्रृंगार  की  जगह  जोगन  बनने  की  दुहाई  थी 
सपने  देखो  ठीक  सच  होने  की  मनाही  थी 
अपना  बनाया  तो  ना,   रूठने  की  सौं  दिलाई  थी 

कैसा  था  तुम्हारा  प्यार 
कहता  सपनों  की  परी   हो  पर  सपनों  में  रहो 
अपनों  से  भी  करीब  हो  पर  सदा  जुदा  रहो 
  छू  पाए  साया  कोई  तुम्हारा  पर  मुझसे  भी  दूर  रहो 

कैसा  है  तुमसे  प्यार 
कि बिसरा  देना  चाहूँ  पर   भूल  ना  पाऊँ 
सोचूं    तुमसे  मिलूं, बिन  देखे  रह  ना  पाऊँ 
जंगल  हो  या  मंगल  तुम्हे  बिसरा  ना  पाऊँ 
जाना  है  दूर  मुझको  सोचूं  तुम्हे  रुला  ना  जाऊं 
हो  कुछ  ऐसा    याद  करूँ  और  तुम्हे   याद  ना  आऊँ 
  तुम  कभी  कहो    मैं  ही  कभी  कह  पाऊँ 
कैसा  था  तुम्हारा  प्यार 
2.36pm, 25/7/2012



11 comments:

  1. दरिया में बहाने कागज की नाव बनाई थी
    bahut achchhi kavita

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढ़िया
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ!


    सादर

    ReplyDelete
  3. जिनके बिना रहना आसान नहीं उन्ही से गिला ... बहुत खूब लिखा है ,...
    आपको १५ अगस्त की शुभकमनाएं ...

    ReplyDelete
  4. जाना है दूर मुझको सोचूं तुम्हे रुला ना जाऊं
    हो कुछ ऐसा न याद करूँ और तुम्हे याद ना आऊँ
    न तुम कभी कहो न मैं ही कभी कह पाऊँ
    कैसा था तुम्हारा प्यार

    भावपूर्ण हृदयस्पर्शी प्रस्तुति.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा प्रीति जी.

    ReplyDelete
  5. रिश्तों औऱ सवालों का
    रिश्ता बहुत जटिल होता है
    जाने किनी कही-अनकही
    बातों का सेतु जोड़ता है
    दो प्रेम करने वालों को
    लेकिन उसी सेतु में पड़ी
    गलतफ़हमियों की दरार
    बांट देती है कभी एक रहे
    नदी के दो किनारों की तरह
    ताकि वे निरंतर साथ-साथ
    चलते हुए भटकते रहें
    जिंदगी की समाप्ती के
    समुद्री मुहाने तक
    एक बार फिर से
    मिलने की उम्मीद में....
    सुंदर कविता के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया। स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामना।

    ReplyDelete
  6. Beautiful writing and beautiful presentation prritiy ji. Happy Independence Day to you too:)

    ReplyDelete
  7. सच कितना बदल जाता है समय के साथ प्यार के मायने ..
    बहुत देर बाद समझ आती है ..
    बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  8. कैसा ये इस्क है.... अजब सा रिस्क है!!!!
    आशीष
    --
    द टूरिस्ट!!!

    ReplyDelete
  9. nice presentation....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete

Thanks for giving your valuable time and constructive comments. I will be happy if you disclose who you are, Anonymous doesn't hold water.

आपने अपना बहुमूल्य समय दिया एवं रचनात्मक टिप्पणी दी, इसके लिए हृदय से आभार.